शुक्रवार, 11 फ़रवरी 2011

उत्साह ही जिन्दगी



   गोंरव इस बात मै नहीं की आप कभी असफल नहीं हुए ,
बल्कि इस बात मै है की आप जितनी बार भी असफल हुए ,
    एक नई शुरुवात के लिए फिर  से उठ खड़े हुए !

8 टिप्‍पणियां:

कविता रावत ने कहा…

सुन्दर सुविचार

दीप्ति शर्मा ने कहा…

ek dam sahi bat

OM KASHYAP ने कहा…

wah
karam hi dharam he
bahut sunder

Kajal Kumar ने कहा…

वाह जी बल्ले बल्ले
ये हुइ न बात :)

रजनी मल्होत्रा नैय्यर ने कहा…

bilkul sahi kaha aapne ....

Amrita Tanmay ने कहा…

बल्किुल सटीक ..

amit-nivedita ने कहा…

absolutely correct.

सुशील बाकलीवाल ने कहा…

बिल्कुल सत्य.