बुधवार, 29 दिसंबर 2010

बेवफा


मेरे पहलु मै दम भर ठहरता ही नहीं !
                    मेरा दिल भी बेवफा है तुम्हारी तरह !

2 टिप्‍पणियां:

संजय भास्कर ने कहा…

Beautiful as always.
It is pleasure reading your poems.

Minakshi Pant ने कहा…

thanx sanjay ji