बुधवार, 29 दिसंबर 2010

नई सुबह



जलाओ दिए उजाला करो ख्यालों में ,
             हर एक दिल की कसक हो तुम्हारे  नालों मै !
                              अँधेरी रात से उठो ख़ुलुसे दिल लेकर ,
                                            कोई  पुकार रहा है तुम्हें उजालों मै !!

3 टिप्‍पणियां:

संजय भास्कर ने कहा…

bahut khoobsurt
mahnat safal hui
yu hi likhate raho tumhe padhana acha lagata hai.

or haan deri ke liye sorry.

संजय भास्कर ने कहा…

बहुत सुंदर भाव युक्त कविता

Kailash C Sharma ने कहा…

बहुत खूब...सुन्दर रचना