शनिवार, 8 जनवरी 2011

जिंदगी


गुलिस्ता मै घूम लेती हु ,
                   वादा खानों मै घूम लेती हु !
जिंदगी तू  जहां भी मिल जाये ,
                   तेरे कदमो को चूम लेती हु !

15 टिप्‍पणियां:

संजय कुमार चौरसिया ने कहा…

bahut sundar panktiyan

Akanksha~आकांक्षा ने कहा…

बहुत खूबसूरत लिखा...बधाइयाँ.
कभी 'शब्द-शिखर' पर भी पधारें.

दीप्ति शर्मा ने कहा…

bahut sunder likha hai aapne

badhyi
...

shikha kaushik ने कहा…

only one word ''shandar '

shikha kaushik ने कहा…

hindustan ka dard par aapki sabhi rachnaon ko padhtee rahti hun .bahut achchha likhti hai .badhai .
mere blog ''vikhyat' ''vicharonkachabootra''par aapka hardik swagat hai .

Dimple Maheshwari ने कहा…

जय श्री कृष्ण...आप बहुत अच्छा लिखतें हैं...वाकई.... आशा हैं आपसे बहुत कुछ सीखने को मिलेगा....!!

Dimple Maheshwari ने कहा…

जय श्री कृष्ण...आप बहुत अच्छा लिखतें हैं...वाकई.... आशा हैं आपसे बहुत कुछ सीखने को मिलेगा....!!

राजीव थेपड़ा ने कहा…

lazawaab....panktiyaan...sach....!!!

Minakshi Pant ने कहा…

sabhi dosto ka me thye dil se shukriya karti hu yese hi mera honsla bdate rehna dost

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

बहुत सुन्दर है मीनाक्षी जी.

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

jindagi jeene ka tarika achchha laga..:)

CS Devendra K Sharma "Man without Brain" ने कहा…

zindagi ki khoj..........sunder abhivyakti

anu ने कहा…

बहुत खूब की हर शेर और रचना की तरहा .......

PK SHARMA ने कहा…

Bahut accha likhti hai aap bhi
Thanks for Your comments.on pksharma1.blogspot.com
ase hi aate raheye
Main aasha karta hoon ki aapke comments mujhe milte rahenge.

Minakshi Pant ने कहा…

thanx all of you friends